ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
हर क़दम पर  इश्क़ की  देती मुझे  दावत  भी थी
June 27, 2020 • हमीद कानपुरी • गीत/गजल
*हमीद कानपुरी
हर क़दम पर  इश्क़ की  देती मुझे  दावत  भी थी।
प्यार करने  का उसे पर  इक सबब सूरत   भी थी।
 
अब ज़रा फुर्सत नहीं तो  किस तरह से हो निबाह,
तब नहीं आया  मुझे  जब  ढेर सी  फुर्सत भी थी।
 
मंज़िलों  की  थी  तलब  यूँ  साथ  हम  चलते रहे,
हमको उससे हर क़दम पर यूँ बहुत ज़हमत भी थी।
 
इश्क़  ने  मुझको  दिया  था  ज़ख़्म गहरा  इक मगर,
दर्द सहने  की मुझे  बचपन से कुछ आदत  भी थी।
 
कल तलक उससे बहुत दिल को शिकायत थी हमीद,
ये मगर सच  है कि शामिल थोड़ी सी उल्फत भी थी।
*बिरहाना रोड ,कानपुर
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw