ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
हाइकू
April 17, 2020 • सोनल पंजवानी • दोहा/छंद/हायकु

 
*सोनल पंजवानी*
 
शांत ये मन
उज्ज्वल चेतन
स्थिर जीवन।
 
सुंदर धरा
उन्मुक्त है गगन
प्यारा आँगन।
 
सुगम साथ
किलकता आँगन
पूर्ण जीवन।
 
तुम्हारे बिन
मेरे मन भावन
कुछ ना भाए।
 
किसी भी ठौर
जब तुम हो गए
व्याकुल मन।
 
आने की आस
रह रह समायी
मन आँगन।
 
आन बसो जी
अब मन पुकारे
सजना द्वारे।
 
*सोनल पंजवानी,इंदौर*

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com