ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
गैर के हाथों का खिलौना होता है
June 14, 2020 • प्रेम पथिक • गीत/गजल

*प्रेम पथिक

गैर के हाथों का खिलौना होता है
आदमी कितना  वो बौना होता है
                  
थक कर चूर जब मजदूर होता है
धरती ही उसका बिछौना होता है
                    
फल नही मिलता श्रम किए बगैर
दही को भी खूब बिलौना होता है
                   
यूं ही नही बनता है हार फूलों का
सूई धागा दिल में पिरोना होता है
                 
खुशियां सदैव सबको  बांटता रहा
उसको अकेले ही तो रोना होता है
                 
हथिनी  को धोखे से खिलाया बम
ये आदमी कितना घिनौना होता है
                 
डुबकियाँ लगाने से कम नही होगा
गुनाहों का बोझ खुद ढोना होता है
                  
सुख हो या दुःख हो  चिंता न करो
होना तो  वही है जो  होना होता है
                    
सयाने लोगों की ये सीख है पथिक
पाने के लिए तो कुछ खोना होता है

*उज्जैन(उज्जैन)

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw