ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
एक प्रायोगिक गजल
May 4, 2020 • कैलाश सोनी सार्थक • गीत/गजल


*कैलाश सोनी सार्थक

क से कठिन हुआ जीवन
ख से खतरा रहता है
ग से गजब बिमारी ये
घ से घातक क्षमता है

च से चीख निकल जाती
छ से छलिया कोरोना
ज से जतन करो दिल से
झ से दुख तब झरता है

ट से टूटे सपने सब
ठ से ठिठक गया हूँ मैं
ड से डरकर भोर हुई
ढ से दिन यों ढलता है

त से सीख तरीका वो
थ से पाए सुख थोड़ा
द से दौर बड़ा कातिल
न से नाटक रचता है

प से पल सुखमय होंगे
फ से फासले तुम रखो
भ से भूल करेगा मानव
म से वो ही मरता है

य से यत्न करो ऐसे
र से राहें मिल जाए
ल से लक्ष्य सिद्ध हों सब
व से हर सुख वरता है

*कैलाश सोनी सार्थक, नागदा, उज्जैन

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे- http://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw