ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
एक दीवार और
June 4, 2020 • अशोक 'आनन' • गीत/गजल
*अशोक 'आनन'
 
घर में
खड़ी हो गई -
एक दीवार और ।
 
धूप  ,  चूल्हे    तक -
अब आ  नहीं  पाएगी ।
व्यथा  दहलीज भी -
अब कह नहीं पाएगी ।
 
अंधेरा खड़ा
बन -
एक साहूकार और ।
 
मकड़जाल तक  भी  आए -
मेरे        हिस्से        में ।
शेष    बचा   न   कुछ  -
राम - लखन के किस्से में ?
 
बीच छोड़ गया
डोली -
एक कहार और ।
 
किलकारियां कर सकीं न -
देहरियां      पार ।
अचारों  में  भी  लग  गई -
फंफूदी इस बार ।
 
गिद्ध - दृष्टि 
अपनों की -
एक स्वीकार और ।
 
घरों  में  रोज़  बंट   रहीं  -
मां    की    कथरियां ।
अपनों को अब बंद हुए -
द्वार और खिड़कियां ।
 
ज़िंदगी में
स्वप्न का -
एक मज़ार और ।
 
घरों  में सूख गईं -
रिश्तों   की   तुलसियां ।
हृदय में उग आईं -
स्वार्थ की नागफनियां ।
 
सोचता हूं
निभा लूं -
एक किरदार और ।
मक्सी जिला - शाजापुर (म. प्र.)
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw