ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
ई-लिटरेचर फेस्टिवल का ऑनलाइन आयोजन
May 25, 2020 • सरिता सुराणा • समाचार


हैदराबाद :  पोएटिक आत्मा और हुनर हाऊस की ओर से इंसानियत आर्मी ई- लिटरेचर फेस्टिवल का आयोजन 22-23 मई को किया गया। इस आयोजन में कवि, शायर, लेखक  जैसे कई उभरते कलाकारों ने भाग लिया। लोगों ने बड़े ही उत्साह के साथ अपनी काव्य कला का प्रदर्शन किया। इस कार्यक्रम में हर वर्ग के लोग मौजूद थे। पोएटिक आत्मा, हुनर हाउस और इंसानियत आर्मी जैसे संगठनों का उद्देश्य ऐसे कार्यक्रमों से प्रतिभाओं को एकत्रित करके एक मंच प्रदान करना है।


पोएटिक आत्मा का संचालन अभिषेक तिवारी करते हैं और इनके सहकर्मी है संदीप दिप्सुन | पोएटिक आत्मा का उद्देश्य लेखकों, कवियों और कलाकारों को एक मंच प्रदान करना है।हुनर हाउस हैदराबाद की संस्था है जिसका संचालन श्रीया धपोला और रितिका रॉय करती हैं। हुनर हाऊस की ऑर्गेनाइजिंग टीम का यही लक्ष्य है कि ये आयोजन देश भर में किये जाएं, ताकि नवोदित प्रतिभाएं उभर कर सामने आए।


इंसानियत आर्मी की नींव कपिल नायर ने रखी है और पूरी टीम का ये लक्ष्य है कि हर इंसान को जोड़कर वसुधैव कुटुंबकम् की सोच को आगे बढ़ाएं और सारी दुनिया से नकारात्मक सोच, कथन और कर्म का नाश करें।लगभग २० से अधिक प्रतिभागियों और अतिथियों ने इस २ दिन के कार्यक्रम में भाग लिया और अपनी रचनाओं की प्रस्तुति दी, जिनमें जाने-माने साहित्यकारों के साथ युवाओं को भी मंच साझा करने का मौका मिला। सभी प्रतिभागियों में उत्साह था। आगे भी इसी तरह के कार्यक्रम का आयोजन होता रहेगा, ताकि नई प्रतिभाएं सामने आ सके।


पहले दिन के कार्यक्रम का शुभारंभ संदीप और कपिल ने किया। रीतिका रॉय , रिया त्रिपाठी , श्रीया धपोला, मोहित इंडिया, प्रवीण सिलस्वाल, सुभाष पाठक, रमाकांत श्रीवास्तव ने अपनी रचनाएं प्रस्तुत की और कार्यक्रम को बांधे रखा। दूसरे दिन का शुभारंभ संदीप और श्रीया ने किया |  नेहा अंसारी, मोहम्मद तंज़ीम , अर्चना शिंदे, अनुष्का शुक्ला, सरिता सुराणा, टिया जोशी, निकिता पटेल, हर्षित श्रीवास्तव, शिप्रा वर्मा , नेहा भंडारी, अमित साहू , सौम्या तिवारी ने अपनी रचनाएं प्रस्तुत की और काफी ज्वलनशील मुद्दों पर चर्चा हुई जैसे वैवाहिक बलात्कार, किन्नरों के साथ भेदभाव।

इन दो दिनों के कार्यक्रम में सभी को अपनी प्रतिभा दिखाने का मौका मिला और अपनी रचनाओं की प्रतिपुष्टि भी मिली। ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन भविष्य में भी होता रहेगा और सभी वर्ग के लेखकों, रचनाकारों, कवियों को इससे जुड़ने का मौका मिलेगा। श्रीया धपोला के धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw