ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
ढील से कार्यस्थलों पर सुरक्षा की चुनौती
May 24, 2020 • डॉ सत्यवान सौरभ • लेख

*डॉ सत्यवान सौरभ

आज जब देश में कोविद-19 महामारी चरम पर है तो आर्थिक उत्पादन को बढ़ाने के लिए लॉक डाउन में ढील देना एक असाधारण चुनौती बन गया है। दुनिया भर के देश कार्यस्थल को सुरक्षित बनाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, और श्रमिकों को उनकी नौकरी पर लौटने में मदद करने के लिए दिशानिर्देश जारी कर रहे हैं। स्वास्थ्य की रक्षा करने और कार्यस्थल  पर आवश्यक सेवाओ को बनाए रखनेके लिए एक साथ काम करने की आवश्यकता है। किसी भी समय उपस्थित लोगों की संख्या को कम करने के दो हो तरीके है, या तो शिफ्ट का सहारा लेना, या कर्मचारियों को घर से काम करने में सक्षम बनाना। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने निवारक उपायों के एक मैनुअल के माध्यम से स्पष्ट किया है जो सभी प्रकार के कार्यस्थलों को कवर करता है और कार्यालयों जैसे सीमित स्थानों के लिए कुछ अतिरिक्त आवश्यकताओं के साथ व्यवहार परिवर्तन पर बहुत अधिक जोर देता है।

देशों पर विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 के कारण लागू की गई तालाबंदी व अन्य सख़्त पाबंदियाँ हटाने के लिए दबाव बढ़ रहा है जिससे वायरस के फिर से उभरने की आशंका भी गहरा रही है. इन्हीं चिंताओं के मद्देनज़र अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन ने ‘कार्यस्थल पर सुरक्षा व स्वास्थ्य के विश्व दिवस’ पर सरकारों से कार्यस्थलों पर कोविड-19 की रोकथाम के लिए समुचित प्रबंध करने का आग्रह किया है. संगठन के मुताबिक कर्मचारियों के बचाव व सुरक्षा में सभी नियोक्ताओं  व श्रम संगठनों की भी अहम भूमिका है और उन्हें इस ज़िम्मेदारी को पूरा करने में सक्रियता दिखानी होगी. नियोक्ताओं से जोखिमों का मूल्यांकन करने और कार्यस्थलों पर बचाव व स्वास्थ्य सुरक्षा उपाय सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है ताकि कर्मचारियों के कोविड-19 से संक्रमित होने का ख़तरा कम किया जा सके.  

यूएन एजेंसी के मुताबिक नियंत्रण के अभाव में देशों को फिर से वायरस के तेज़ी से उभरने की चुनौती का सामना करना पड़ सकता है. आवश्यक उपाय समय रहते अपनाकर कार्यस्थलों पर संक्रमण की दूसरी लहर  के ख़तरे की रोकथाम संभव है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कार्यस्थलों के लिए नए दिशानिर्देश जारी करते हुए निर्देश दिए हैं कि किसी को भी कोविड -19 के संदिग्ध / पुष्टि मामले  तुरंत कार्यालय अधिकारियों को सूचित करना चाहिए और खुद को अलग करना चाहिए। किसी भी कर्मचारी को अपने आवासीय क्षेत्रों में नियंत्रण क्षेत्र की गतिविधियों के आधार पर  घर से काम करने की अनुमति दी जानी चाहिए। साथ ही, फ्लू जैसी बीमारी से पीड़ित किसी भी कर्मचारी को कार्यालय में उपस्थित नहीं होना चाहिए और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों से चिकित्सा सलाह लेनी चाहिए।

परीक्षण पैटर्न के एक संशोधन के बाद दिशानिर्देश जारी किए गए हैं, जहां पहले के मानदंडों के अलावा, कोविड-19 के समावेश और शमन में शामिल फ्रंट लाइन के कार्यकर्ताओं को शामिल करने के लिए रणनीति को चौड़ा किया गया है, सभी अस्पताल में भर्ती मरीजों को जो इंफ़्लुएंज़ा (एलएलएल) विकसित करते हैं ,सभी को: कम से कम एक मीटर की शारीरिक दूरी, चेहरे के मास्क या कवर का अनिवार्य उपयोग, साबुन से लगातार हाथ धोना,  संपर्क सतहों को साफ करना और स्वास्थ्य की स्व-निगरानी में रहना होगा। एक मीटर की भी शारीरिक दूरी,  या छह फीट की दूरी रखनी होगी जिसकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वकालत की है

खराब-हवादार, बंद वातावरण में, वायरस को फ्री रन देता है, डिस्टेंस बनाए रखने में विफलता वहां ज्यादा होती हैं जहाँ कुछ व्यक्ति जो एक कमरे या एक बंद स्थान को साझा करते हैं, जो कोविद -19 के लक्षण से पीड़ित पाए जाते हैं, उनके लिए इन उपायों की सिफारिश की जाती है, बीमार व्यक्ति को ऐसे कमरे या क्षेत्र में रखें जहाँ वे कार्यस्थल पर दूसरों से अलग-थलग हों। ऐसे समय तक एक मास्क / फेस कवर प्रदान करें जब तक कि उसकी जांच किसी डॉक्टर द्वारा न कर दी जाए। संबंधित केंद्रीय / राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों को रिपोर्ट करें। हेल्पलाइन 1075 पर तुरंत सूचित किया जाएगा।

इस प्रकार के मामलों में निर्दिष्ट सार्वजनिक स्वास्थ्य प्राधिकरण (जिला आरआरटी / उपचार चिकित्सक) द्वारा एक जोखिम मूल्यांकन किया जाएगा और तदनुसार मामले के प्रबंधन, उसके संपर्कों और कीटाणुशोधन की आवश्यकता के बारे में आगे सलाह दी जाएगी। संदिग्ध मामला यदि स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा मूल्यांकन पर बहुत हल्के / हल्के लक्षणों की रिपोर्टिंग कुछ मानदंडों की पूर्ति के अधीन रखी जाएगी, । यदि कार्यालय में एक या दो मामले दर्ज किए जाते हैं, तो पिछले 48 घंटों में रोगी द्वारा देखे गए स्थानों को कीटाणुरहित किया जाएगा और कार्यस्थल को बंद करना होगा ,कीटाणुशोधन के बाद काम फिर से शुरू किया जाएगा। बड़े प्रकोप के मामले में, भवन को कीटाणुशोधन के बाद 48 घंटे के लिए सील कर दिया जाएगा, जबकि कर्मचारी घर से तब तक काम करेंगे जब तक भवन को कब्जे के लिए फिट घोषित नहीं किया जाता है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह भी कहा कि कोविड -19 के प्रसार को खत्म करने के लिए एक गेम-चेंजर के रूप में पेश किए गए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन (HCQ) को बदलने के लिए अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है, जो कि एक रोगनिरोधी के रूप में, एचआईवी संयोजन दवाओं के साथ, विशेषज्ञों की रिपोर्ट की मांग के बाद यह स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं सहित उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों के लिए निर्धारित दवाओं की सुरक्षा दिशानिर्देश सूची से हटा दिया गया है। एचसीक्यू की प्रभावशीलता पर सवाल उठाने वाले विशेषज्ञों के साथ, एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि दवा की समीक्षा की जा रही है "लेकिन इसे अभी तक छोड़ने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है"।

चूंकि कोविद -19 स्थिति अब काबू में है और अब लॉकडाउन में ढील दी जा रही है, कार्यालयों और प्रतिष्ठानों पर पूरी तरह से दूरी के नियम लागू नहीं हैं , श्रमिकों द्वारा उपयोग किए जाने वाले सार्वजनिक परिवहन, काम पर पहुँचने के लिए जरूरी है। कुछ संस्थान काम पर लौटने वाले कर्मचारियों द्वारा आरोग्य सेतु ऐप की स्थापना को अनिवार्य कर रहे हैं, जब तक  निगरानी तंत्र का कानूनी आधार अस्थिर है तो  स्वास्थ्य देखभाल का कोई सुनिश्चित लाभ नहीं हैं। महामारी के इस चरण में कार्यस्थल पर एकदम लोग बढ़ेंगे तो बढ़ते मामलों को रोकने के लिए अभी भी रुक-रुक कर लॉकडाउन का सहारा लेने की जरूरत है। एक विवेकपूर्ण दृष्टिकोण के साथ ही वर्तमान संकट से हम निपट सकते है।


यह महामारी किसी युद्ध से अलग है लेकिन इस पर विजय के लिए मिलकर काम करने की जरूरत है। जब लोगों को अहसास होगा कि सामूहिक कार्रवाई से क्या हासिल हो सकता है तब इस बात में बदलाव आ सकता है कि हम कैसे एक दूसरे से जुड़े हुए हैं और इसका परिणाम यह होगा कि समुदाय की एक व्यापक भावना पैदा होगी। हमें यह सुनिश्चित करना है कि इस महामारी के लिए जो बदलाव हो वह बेहतरी के लिए हो न कि बदतर हालात के लिए। कोविड-19 महामारी ने दुनिया को काफी हद तक बदल दिया है। हर दिन जैसे-जैसे इसका प्रसार बढ़ रहा है वैसे-वैसे यह अधिक स्पष्ट होता जा रहा है कि इसने कैसे दुनिया को बदला है।
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw