ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
देश हित की भावना हो
June 21, 2020 • डा केवलकृष्ण पाठक • गीत/गजल
*डा केवलकृष्ण पाठक
देश हित की भावना हो ,,हर युवा के हृदय में
उदंडता   का भाव ना  हो,हर युवा के हृदय  में
 
देश  में बलिदान   होने  की   इच्छा   हो  प्रबल
सब  की  सेवा  भावना  ,हर  युवा   के  हृदय में

जो जहाँ जाये युवा ,सब को  मिलें   प्रसन्नचित
सब में  मैत्री   भावना   हो ,हर  युवा के हृदय में

 जति- पाति  भेद ना हो  ,संप्रदायक    ना   बनें  
ना  हो  उंच-नीच  भावना ,हर  युवा के  हृदय में

कोई ना बहकाये  किसी को ,कुछ भी ना लूटे कोई
सच्चाई की  भावना  हो  ,हर  युवा के  हृदय में

प्यार  बांटें  प्यार  पाएं घृणा  ना  उपजे   कभी ,
जगत  सेवा  भावना हो ,हर  युवा के हृदय  में
*जींद ( हरियाणा )
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw