ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
देश हमारा सबसे प्यारा
October 8, 2020 • ✍️पुखराज जैन पथिक • कविता
✍️पुखराज जैन पथिक
वसुधैव कुटुंबकम की जहा बहती प्रेम धारा ,
सबसे न्यारा सबसे प्यारा भारत देश हमारा ।
 
सुबह प्यारी  है जिसकी  प्यारी है हर शाम, 
जहाँ हर इंसा के मन मे बसे हुए हैं श्री राम ।।
 
हर मजहब के लोग यहाँ रहते बन भाई भाई  ,
एक दूजे के सुख-दुःख में कभी न आंख चुराई ,
 
आपस की हमजोली मे छिपी हुई यहाँ हर मुस्कान ।
लहराती हरियाली जहाँ बड़ी निराली है शान ।।
 
ऊंचे-ऊंचे पेड़ घनेरे  जिससे छनती धूप, 
कलकल करती नदियाँ बहती बड़ा अनोखा  रूप, 
 
सावन मे जब पड़े फुहारे कोयल गीत सुनाती ,
दादुर मोर पपिहा बोले प्रकृति सबका मन लुभाती ।।
 
हर मौसम का यहाँ अपना एक नया वरदान ।
जिनसे सारी खुशियाँ पा जाता है किसान ।।
 
यही सभ्यता है संस्कृति का हम मान करें ।
संस्कार दिए पुरखों ने उनका ही यशगान करें ।।
 
मेरा देश महान  है   यह मेरा हिन्दुस्तान ।
यह मेरा हिन्दुस्तान यह मेरा हिन्दुस्तान 
 
*ग्राम भाटीसुड़ा नागदा जं 
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw