ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दीपावली का त्योहार मनाएं
October 29, 2019 • सुरेश शर्मा • कविता


जगमग -जगमग दीप  जलाकर ,
काली  रात को  दूर  भगाएं।
दीपक  की उजियारी से हम ,
खुशियों  की उपस्थिति  कराएॅ ।

छूट  ना जाये  घर  कोई आंगन,
ऐसी रोशनी  का त्योहार  मनाएं  ।
दुश्मनी छोडकर दोस्ती  सजाएं
ऐसा  रोशनी  का त्योहार  मनाएं।

मिट्टी  के  सुन्दर  दीप जलाएं,
ताकि मेहनती  कुम्हार के  घर भी,
कुछ फूलझडिया  और मिठाईयां
खुशियों की  सौगात दे जाए ।

इसबार  हम सब  अनूठा त्योहार मनाएं,
हम बड़ों  के  दरवाजे पर दस्तक देकर ;
उनके  समक्ष अपना शीष नमाए,
मिठाई खिलाकर उनसे  आशीष  पाएं।

जगमग -जगमग दीप जलाकर ,
जगमगाती  दीपावली  मनाएं ।
खुशियाॅ  से भर जाए आंगन ,
दुख  दर्द  को  दूर  भगाएं ।

आओ ऊंच- नीच को छोड़कर ,
जात-पात  को परे  रखकर ;
सुन्दर  सुखद  और  स्वच्छ
दीपावली  का त्योहार  मनाएं ।

*सुरेश शर्मा,नूनमाटी, गुवाहाटी,आसाम, मो 8811033471
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733