ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दीपावली-अभिनंदनम् (गीत)
October 25, 2019 • admin

*प्रो.शरद नारायण खरे*
दीपक ने फिर नग़मे गाये,उजियारा हर्षाया ।
रोशनियों के दिन आये हैं,अँधियारा घबराया ।।

समाचार खुशियों के फैले
सूरज हरकारा है 
अपनेपन औ' नेह-प्रीति का
अब  तो जयकारा है

आतिशबाज़ी ने हौले से,सबका साथ निभाया ।
झंझावातों में जलकर भी,दीपक है मुस्काया ।।

माहिष्मती में धूम मची है
हर इक है उल्लासित
गली-मोहल्ला/सारी बस्ती
आज हुये आह्लादित

महल,झोंपड़ी चहक रहे सब,सबने मंगल गाया ।
पर्व सात्विक,चंदन-वंदन,हर इक जन को भाया ।।

मैैहरवाली माँ ने सबको
दिया नवल वरदान
है आलोकित हर घर-आँगन
लक्ष्मी का जयगान

अपनेपन के सुर बिखरे हैं,हर पल है मुस्काया ।
दीपपर्व का अभिनंदन है,उजियारा हर्षाया ।।
     
*प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला (मप्र) मो.9425484382
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733