ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दर्पण की अदाकारी
August 17, 2020 • ✍️ रश्मि वत्स • कविता

✍️ रश्मि वत्स
चेहरा देख दर्पण में ,
खुद पर यूं इतराता क्यूँ ।
सूरत दिखे दर्पण में ,
सीरत का अंदाजा नही ।

दर्पण की अदाकारी इतनी सी ,
ये दिल का राज़ छुपाता नही ।
बयां कर देता हकीकत सारी,
जो दुनिया को पता ही नहीं ।

झूठ-सच को ये निभाता नही ,
जो है सामने ,बस वही दिखता है ।
संवार देता है तस्वीर तुम्हारी ,
पर तकदीर नही बनाता है ।

दर्पण से नाज़ुक दिल के रिश्ते,
ज़रा चोट लगे टूट जाते हैं ।
संभाल कर रखा करो इन्हें ,
बिखरे टुकड़े कहाँ फिर जुड़ पाते हैं ।

*मेरठ (उत्तर प्रदेश)

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw