ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
डरना नहीं, बढ़ते रहो, ऊँचाइयाँ चढ़ते रहो.
June 25, 2020 • गोपालकृष्ण भट्ट 'आकुल' • गीत/गजल
*गोपालकृष्ण भट्ट 'आकुल'
डरना नहीं, बढ़ते रहो, ऊँचाइयाँ चढ़ते रहो.
दो दिन की हैं कठिनाइयाँ, हँसके इन्हें सहते रहो.
 
धरती नहीं क्या चल रही, क्या सह रहे मौसम नहीं,
बहती नदी है जिंदगी, नदिया सदृश बहते रहो.
 
है आज जो वातावरण, इंसान की ही खोज है,
स्वच्छंद हो परवाज़, पक्षी की तरह उड़ते रहो.
 
इंसान ने ही एक दिन, उड़के फ़लक को छू लिया,
तुम भर सको यदि वक्त को , भर मुट्ठियाँ चलते रहो.
 
'आकुल' अलग करना यहाँ,  यूँही मिली ना जिंदगी,
कुछ कर ग़ुज़रने को जिगर, फ़ौलाद का करते रहो.
 
*कोटा (राज.)
छंद- हरिगीतिका
मापनी- 2212 2212 2212 2212
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw