ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दहशत में हैं घर
April 25, 2020 • अशोक ' आनन ' • गीत/गजल

       

*अशोक 'आनन'
 
आशंकित हैं मन  -
दहशत में हैं घर ।
 
          अख़बार  परोस रहे हैं  -
          मौत की ख़बरें ।
          कालिख में आकंठी हैं -
          कुमकुमी सहरें ।
 
उड़ान से पहले ही  -
नोंच   लिए   पर ।
 
         चकमकों के घर हैं -
         बारूदी बिछातें ।
         शामियाने हैं फूसी -
         माचिसी कनातें ।
 
हवाएं  हुईं  पागल -
देख  गर्म  दुपहर ।
 
        फूल    शोले    हुए  -
        कली हुईं चिंगारियां ।
        मौसम आतंकी हुए-
        कर    अठखेलियां ।
 
केसरिया तितलियों के -
राख        हुए       पर ।
 
*अशोक ' आनन '
 मक्सी ,जिला - शाजापुर (म.प्र.)
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw