ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
छुप गया बसंत
February 6, 2020 • कुसुम सोगानी • कविता

*कुसुम सोगानी

दिल खोजता ,शहर में
महका बसंत आगमन
आभास भी नहीं होता
कोयल ,कुहु का गायन
माँ शारदा की स्तुति
वीणा झंकार वादन
ठहरी हुई सी लगती
सुरभित मलय पवन
अट्टालिका हैं ऊँची
उजाला हीथाम लेती
जैसे नगर में घूँघट
ओढ़ लेती ज्यों बसंती
शहरी लगा है ढूँढने
पत्तों का पीला पन
दिखते नहीं सुदूर तक
बौर आम्र के सघन वन
दिखती नहीं ललनायें
केशरिया सा बदन
लहराती केशराशि
काजल से भरे नयन
प्रिय की मिलन घड़ी का ,
अप्रतीक्षित सा चलन
ले चल मुझे मेरे मन
जंहा होता बसंत ,आगमन

*कुसुम सोगानी, इंदौर
 
साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com