ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
चाय मिले तो ज़िन्दगी
January 7, 2020 • प्रो.शरद नारायण खरे • दोहा/छंद/हायकु


*प्रो.शरद नारायण खरे

चाहत लेकर चाय की,जगता हूं मैं भोर ।
मिल पाये यदि चाय ना,मैं कर देता शोर ।।

जीवन की संजीवनी,चाय लगे वरदान ।
चाय मिले तो ज़िन्दगी,लगती है आसान ।।

चाय बिना कुछ भी नहीं,चाय बिना सुनसान ।
चाय मिले तो ठंड में,बच पाती है जान ।।

चाय बिना आनंद ना,चाय बिना ना चैन ।
गर्म पेय को खोजते,रहते हरदम नैन ।।

चाय-चाह जो भी करे,वह हो जाता दिव्य ।
चाय चाय की चाहतें,बहुत हो रहीं श्रव्य ।।

चायपान करके बना,'शरद' बहुत बलवान ।
चाय के कारण ही बना,बंदा अति गुणवान ।।

चाय दुकानें,केतली,ठिलिया औ' स्टाल ।
शौक़ीनों की भीड़ नित,करती बहुत कमाल ।।

नहीं मिले भोजन मगर,हरदम पाऊं चाय ।
ख़ूब पियो सब चाय को,यही 'शरद' की राय ।।

चाय बहुत ही श्रेष्ठ है,यह है महती चीज़ ।
तय है यह, यदि चाय ना,तो होगी ही खीज ।।

चाय नहीं होती अगर,हो जाता सब सून ।
ढाती सर्दी नित कहर,होकर तीखी दून ।।

*प्रो.शरद नारायण खरे
विभागाध्यक्ष इतिहास
शासकीय जेएमसी महिला महाविद्यालय
मंडला (मप्र)-481661

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com