ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
चार  सू  महफ़िल  सजाते  जायेंगे
May 6, 2020 • हमीद कानपुरी • गीत/गजल

*हमीद कानपुरी
 
चार  सू  महफ़िल  सजाते  जायेंगे।
गीत   ग़ज़लें    गुनगुनाते   जायेंगे।
 
साथ सबको  अपने ले के  जायेंगे।
दर सभी का  खट खटाते  जायेंगे।
 
आज प्रैक्टिस खूब उनकी सबकरें,
दाँव  कल  जो  आज़माये  जायेंगे।
 
रौशनी की  है ज़रूरत   हर जगह,
अब दिये हर   सू  जलाये  जायेंगे।
 
इस करोना  काल में  इस  ईद  में,
क्या नये   कपड़े  खरीदे   जायेंगे।
 
कल चलेंगे लोग सब उनपर हमीद,
हम   नयी   राहें    बनाते   जायेंगे।
 
गीत ग़ज़लें लिख रहे जिनमें हमीद,
अब वो लन्दन तक रिसाले जायेंगे।
 
*हमीद कानपुरी

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw