ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
भगवती गंगा
June 14, 2020 • शुभम पांडेय गगन • कविता
*शुभम पांडेय गगन
देवी सुरेश्वरि भगवत गंगे
करो कृपा हे माँ गंगे
शिव के जटा में तुम विराजत
श्री हरि के पावँ पखारत
ब्रह्मा के कमंडल से निकली
स्वर्ग में कलकल बहती
भगीरथ के पुरखों को तारा
बहती भारत मे पुण्य धारा
सबके पाप मैया तुम धुलती
सरस्वती, यमुना ,माँ कालिंदी
संगम में मिलन तुम्हारा
देव प्रयाग में वास तुम्हारा
करो कृपा हे हर हर गंगे
बहती रहना निर्मल गंगे।।
*अयोध्या फैज़ाबाद उत्तर प्रदेश
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw