ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
बेटियां (कविता)
October 11, 2019 • admin

*रूपेश कुमार*

पृथ्वी की परिकल्पना होती है बेटियां ,

आकाश की सितारा होती है बेटियां ,

देवी की रूप होती है बेटियां ,

जीवन की रोशनी होती है बेटियां ,

 

विश्व की सृजन करती है बेटियां ,

मां- पापा के जीवन की जान होती है बेटियां ,

मां की लोरी होती है बेटियां ,

पिता की बेटा होती है बेटियां ,

 

भाई की रक्षा करती है बेटियां ,

मां की दुखों को हरती है बेटियां ,

पिता की आंशू पोछती है बेटियां ,

परिवार की शान होती है बेटियां ,

 

बेटी बिन जीवन अधूरा ,

खाली - खाली सुना सुना ,

बेटी सबकी दर्द को हरती ,

सबकी दुखों को सहती है ,

 

भारत की मान है बेटियां ,

जीवन की अभिमान है बेटियां ,

बेटों से सहनशील होती है बेटियां ,

बेटों से गम्भीर होती हैं बेटियां ,

 

जीवन की नदियों की धार है बेटियां ,

समुन्द्र की मतझार है बेटियां ,

भाई की कलाई की लाज है बेटियां ,

भाई बहन के बीच की दिल की धड़कन है बेटियां ,

 

जीवन की विश्वास है बेटियां ,

जीवन की अमूल्य धरोहर जान है बेटियां ,

बदलते दुनिया की स्वपन है बेटियां ,

मानव जीवन की अमूल्य योगदान है बेटियां ,

 

बेटियों को मजबूरी ना समझो ,

सबसे मूल्यवान है बेटियां ,

संसार की पालना है बेटियां ,

शिक्षा की गुणवत्ता है बेटियां ,

 

सबको मिलकर बेटियों को बचाना है ,

यही नारा लगाना है ,

बेटी को पढ़ाना है ,

पृथ्वी का अस्तित्व बचाना है !

*रूपेश कुमार,चैनपुर,सीवान बिहार,मो.-9934963293

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733