ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
बचिएगा कोरोना से
March 21, 2020 • डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल' • गीत/गजल

*डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'

बचिएगा कोरोना से,औरों को भी बचाना।
घर में ही रहना मित्रों,बाहर कहीं न जाना।।

कोरोना,नाम की ये, आयी नयी बीमारी,
ये फैलती तेजी से, भयभीत दुनिया सारी,
इससे बचाव हेतु,बस करिएगा तैयारी,
हाथ धोना अपने,
और इम्युनिटी बढ़ाना।
बचिएगा कोरोना से,औरों को भी बचाना।।

खांसी, बुखार संग संग,यदि सांस की परेशानी,
हो सकता है कोरोना,ये इसकी है निशानी,
उपचार कराने में,करना न आनाकानी,
बनना न स्वयं डॉक्टर,
तुम अस्पताल जाना।
बचिएगा कोरोना से,औरों को भी बचाना।।

एक दूसरे से रहिए,दूरी जरा बनाकर,
उनसे विशेष बचिए,जो आये विदेश जाकर,
न बुलाइए किसी को,न जाओ बुलावा पाकर,
भीड़-भाड़ से अब, 
दूरी तुम बनाना।
बचिएगा कोरोना से,औरों को भी बचाना।।

इससे बचें रहोगे,बस रखना सावधानी,
लेना सुपाच्य भोजन,और पीना गर्म पानी,
रखिएगा ध्यान अपना, जिंदगी स्वयं बचानी,
करिएगा बस नमस्ते,
अब हाथ न मिलाना।
बचिएगा कोरोना से,औरों को भी बचाना।।

*डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल',धामपुर
जिला- बिजनौर,उत्तर प्रदेश

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com