ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
बाल श्रम
June 10, 2020 • प्रीति शर्मा 'असीम' • कविता

* प्रीति शर्मा 'असीम'
 
 मेहनत कर करता गुजारा।
 जीवन का कर्म एक सहारा।
 किस्मत ने किया जिसे वरण ,
 बाल -श्रम की व्यथा मर्म -मर्म ।
 
हर कोई है दुत्कार जाता ।
कोई प्यार से कभी पास बुलाता।
छोटे हाथों के बड़े कर्म ,
बाल -श्रम की व्यथा शर्म -शर्म ।
 
जीवन के संघर्ष से लड़ता।
अपने फर्जो को पूरा करता ।
बचपन खेल के बस रहे भरम।
बाल -श्रम उन्मूलन हो धर्म -धर्म।
*नालागढ़ हिमाचल प्रदेश
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw