ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
बाबूजी को दुनिया छोड़े
November 11, 2019 • शिव कुमार 'दीपक' • कविता

*शिव कुमार 'दीपक'*

 

बाबूजी को  दुनिया छोड़े, 

एक साल भी  ना बीता ।

पुत्र -वधू तंग करे माँ को, 

वह करती रोज फजीता ।।-1

                                जान बूझकर काम बिगाड़े,

                                अम्मा  के रख सर  देती ।

                                हर पल  पति से करे बुराई,

                                मन  में नफरत  भर देती ।।-2

प्रेम जाल में फँस कर बेटा,

माँ  से नफरत  कर बैठा ।

अब घर से  दूर भगाने को,

पत्नी   देती नित   ऐंठा ।।-3

                                इक दिन पूत कपूत हुआ जी

                                किस्मत  ने मुख को मोड़ा ।

                                मैया  को ले  जाकर सुत ने,

                                वृद्धा  आश्रम में   छोड़ा ।।-4

पति-पत्नी अब रहें मौज में,

माँ  नौ - नौ  आँसू रोये ।

कष्टों का नित करे कलेवा,

दुख  में जागे  औ सोये ।।-5

                                बूढ़ी माँ के जर-जर तन को,

                                रोगों   ने आकर   घेरा ।

                                माँ की नजरों में अब लगता,

                                यम  के दूतों   का फेरा ।।-6 

सुरपुर को जाने से पहले,

माँ  मन में ममता जागी ।

उसे बुला दो अरे सेवको,

जो  है नारी  अनुरागी ।।-7

                                सुने वचन उस बूढ़ी माँ के,

                                बेटे  को फोन  मिलाया ।

                                मिलना है तो ,जल्दी आओ,

                                सेवक  ने यह  फ़रमाया ।।-8

सुनकर टेलीफोन,चला वह,

अधवर में पिकनिक छोड़ी ।

छोड़ी साली, घरवाली फिर,

गाड़ी  आश्रम को मोड़ी ।।-9

                                 आकर देखा जननी माँ को,

                                 माँ  की आँखें  भर आईं ।

                                 बड़े दुखों से पाला जिसको,

                                 उस मति  पर रोये  माई ।।-10

माँ का  हाल देखकर  बेटा,

हाथ  पकड़ कर यूँ  बोला ।

बोलो माँ,क्या करूँ आपको,

मन का  दरवाजा खोला ।।-11

                                 मेरी अंतिम इच्छा को तू 

                                 चाहे  तो पूरी  कर दे ।

                                 कमरों को पंखा कूलर ला,

                                 दो फ्रिज,वाटर कूलर दे ।।-12

इतनी सुनकर बेटा बोला,

वर्षों  से कुछ ना  माँगा ।

अब क्या होगा माँ इन सबका,

टूट  रहा जीवन  धागा ।।-13

                                सुत की बातें सुन माँ बोली,

                                मैंने  दुर्दिन  सब झेले ।

                                गर्मी - सर्दी,दुख-दर्द  सहे,

                                भूख प्यास में दिन ठेले ।।-14

मुझको डर है सुत जब तेरा,

घर  से तुझे  निकलेगा ।

मैंने  कष्ट सहे  हैं बेटा ,

तू  कैसे  सह पायेगा  ?।।-15

                                इतनी सुनकर,हिचकी भर-भर,

                                बेटा   रोया पछताया  ।

                                मैं नीच,स्वार्थी,खल कामी ,

                                माँ  को मेरा हित भाया ।।-16

तू ! जो कहती सब कर दूँगा,

लेकिन  यहाँ न  छोड़ूंगा ।

बाहों में भर,शपथ उठाऊं,

अब ना मुख को मोडूंगा ।।-17

                                इत माँ देखी, रब रूठ गया,

                                बोल  रुके समझाने  से ।

                                पंछी पिंजड़ा छोड़ चला अब,

                                क्या होगा अब पछताने से।।-18

 

*शिव कुमार "दीपक",बहरदोई,सादाबाद,हाथरस (उ०प्र०),मो०-8126338096

 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733