ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
बाबा जी टक्कर में कोई नहीं
June 26, 2020 • सुरेश सौरभ • व्यंग्य
*सुरेश सौरभ
हमारे बाबा जी अवतारी महामानव है। इनके जैसा दुनिया में कोई नहीं ये भी आप कह सकते हैं कि इनकी टक्कर का न कोई पैदा हुआ है और न आगे कोई होगा। ये इतने लाजवाब हैं कि इनकी महानता की उपमा किसी से की ही नहीं जा सकती। तमाम सुर-असुर नर-किन्नर इनकी चौखट पर रोज आकर अपनी-अपनी सलामी ठोंकते-बजातें हैं। जिससे देश का कल्याण बुलेट ट्रेन सा धड़धड़ाते हुए धुंआधार होता जा रहा है। देश निर्भाध गति से तरक्की के नये-नये झंडे गाड़ता जा रहा है। इनकी ही कृपा से देश की सारी नदियां साफ हो चुकीं हैं। सारा प्रदूषण खत्म हो चुका है। सारी ऋतुएं समय से आते-जाते हुए देश के किसानों और सीमा के जवानों का कल्याण करते हुए पूरे देश को खुशहाल-मालामाल कर रहीं हैं। सारी जनता दूध-भात खाते हुए दिन-रात बाबा जी का गुणगान कर रही हैं सारा काला धन गोरा होकर सबके घरों पर मूसलाधार बरस रहा है। कोई बेकार नहीं है। कोई बीमार नहीं हैं।
आत्मनिर्भरता की बहती गंगा से नहाते हुए सभी लोगाें का स्वर्ग जाने का रास्ता बिलकुल साफ होता जा रहा हैं। हर आपदा को अवसर बनाते हुए गरीब मजदूर तो सबसे ज्यादा खुशहाल होते जा रहे हैं। ऐसी हरियाली खुशहाली देश कभी नहीं आई होगी। बाबा जी के दैवीय सदकार्यों से ही यह आ पाई है। जिसकी प्रशंसा मुक्त कंठ से आकाश के सारे देवी-देवता और भोंपू चैनल दिन-रात कर रहें हैं। अगर इन भोंपू चैनलों की मानें तो हमारे ये बाबा जी ही सही अर्थों में सुर-असुर नर-किन्नर, पशु-पक्षी कीट-पतंगों आदि सब के मुख्य नेता या सरदार हैं। और सिर्फ यही ही देश को चला रहे हैं। इसलिए ऐसे बाबा जी का सभी लोगों को हृदयतल से सम्मान करना चाहिए तभी देश में आगे भी निर्बाध रूप से विकास ही विकास पैदा होता रहेगा।
बाबा जीे ने जब देश के लिए अपना घर परिवार बीवी-बच्चे सब छोड़ दिये, तब तो लोगों का यह कहना लाजिमी बन जाता है कि गौतम बुद्ध के जैसा इन्होंने देश के लिए त्याग किया है,, ऐसे देवतुल्य महामानव की मूरत बना कर सभी लोगाें को पूजा-आराधना करनी चाहिए। अगर एंटी नेशनल लोग बाधा न बने तो भक्त लोग इन्हें अवतारी बाबा या देवता बिलकुल बना देंगे। 33 करोड़ में अगर एक बढ़ जायेगा तो कितना देश के वर्तमान और भूत का भला होगा। अब ऐसे कयास पश्चिम विक्षोभ से आने वाली हवाओं से लगाए जा रहें कि जन-जन के इस परोपकारी बाबा को अवतारी महापुरूष बनाने के लिए भक्त लोग एड़ी से चोटी तक जोर लगायेंगें। 90 फीसदी उम्मीद है कि भक्त ऐसा कर पाएंगे। देश के विकास के लिए अगर यह हो गया, तो आने वाले दिनाें में बाबा की करामात से देश फिर से सोने की चिड़िया कहलायेगा। 
*निर्मल नगर लखीमपुर खीरी यूपी 
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw