ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अज़ीब सा ये गुमान क्यों है
June 27, 2020 • प्रदीप ध्रुव भोपाली • गीत/गजल

*प्रदीप ध्रुव भोपाली

अजी़ब  सा ये गुमान क्यों है।
पता करो ये उफान क्यों है।

सितम कभी जब नहीं हुआ फिर,
सितमगरी का निशान क्यों है।

फरेबियों की हुई अगर जद,
मगर बचा ये जहान क्यों है।

क़रीब में क़ातिलों का डेरा,
मगर वो सूना मशान क्यों है।

अगर सही रुख निज़ामतों का,
वो दरबदर फिर किसान क्यों है।

जो रहजनी में शुमार अक्सर,
उसे कहें  ध्रुव महान क्यों है।

*भोपाल मध्यप्रदेश

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw