ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अवतारों मे सबसे बडकर समझे जाते राम हैं
August 10, 2020 • ✍️राम गोपाल राही • कविता
✍️राम गोपाल राही
 
ब्रह्म कहें  या ईश्वर उनको ,
सचमुच में ही राम है |
अवतारों में सबसे बड़कर,
समझे जाते राम है ||
 
भजते जिनको देव मुनि गण ,
वह प्राणों में बसते हैं |
प्राणी मात्र के वही सहारे ,
सब की रक्षा करते हैं  ||
दो अक्षर का नाम सहारा ,
बनते सारे काम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर
समझे जाते राम हैं ||
 
जड़ चेतन में राम समाए ,
कण-कण में प्रतिबिंबित है |
सृष्टि सारी उनकी माया ,
जग  उन पर अवलंबित है ||
राम सभी के सभी राम के ,
मन को भाते राम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
उन्हें निहारें  सब पुकारें ,
सबके वही सहारे हैं |
पूजा उनकी करें आरती ,
सबके प्रिय हमारे हैं ||
हृदय प्रफुल्लित हो जाता ,
सुखद सुहाते  राम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
जो राम को भजे पुकारे ,
वही राम  के होते हैं |
दत्त चित हो राम भजे तो ,
राम के दर्शन होते हैं ||
शुद्ध हृदय अंतर में खुद
चल कर आते राम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
धर्म सनातन मानवता ही ,
सचमुच प्यारा राम को  |
शुध्द भावना , परे स्वार्थ से ,
कर्म सुहाता राम को ||
राम सत्य है सत्य राम हैं ,
वचन निभाते राम हैं |
अवतारों में सबसे  बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
वह जगदीश्वर   व परमेश्वर ,
विश्व विधाता राम है |
हम  सब हैं संतान उन्हीं की ,
पिता जगत के राम हैं ||
बने सहारे ,निर्बल के बल ,
बन कर आते राम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
जल थल नभ में उन्हें निहारो ,
अंतरिक्ष में राम हैं |
सूर्य उर्जा चंद्र ज्योति में ,
जग चमकाते राम है ||
सृष्ठी  छवि अलौकिक प्यारी ,
सचमुच में अभिराम हैं |
अवतारों में सबसे  बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
प्रकृति  छवि निराली अनुपम
सच नैनाभिराम सी  |
वन पहाड़ सागर व नदियाँ,
प्रति छाया सी  राम की ||
वह नारा नारायण  जिनके
अवतारी श्रीराम हैं |
अवतारों में सबसे बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
वह ब्रह्म ब्रह्मांड के अंदर,,
वह दर्शन की कड़ियों में |
वही चेतना वही योग में ,
वह जीवन की लड़ियों में ||
दिव्य भव्य परमपुरूष वो ,
सभी चाहते  राम है |
अवतारों में सबसे   बड़कर ,
समझे जाते राम हैं ||
 
इच्छाशक्ति दृष्टि राम सी
जब मन में हो जाती है |
जब होवें तल्लीन राम में ,
छवि राम मन आती है||
श्वास श्वास में राम रमे
प्राण  प्राण  में राम हैं |
अवतारों में सबसे  बड़कर 
समझे जाते राम हैं ||
                  
पो.लाखेरी,जिला बूँदी (राज)
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw