ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अपूर्वा ने कविता के माध्यम से कोरोना को भगाने की अपील
April 11, 2020 • शाश्वत सृजन समाचार • समाचार

लखनऊ केडाक निदेशक केके यादव की बेटी अपूर्वा की 'कोरोना को भगाना है' कविता हो रही वायरल

कोरोना ने जहाँ लोगों को लॉक डाउन के चलते घरों में रहने पर मजबूर कर दिया है, वहीं बच्चे इसका उपयोग अपनी क्रिएटिविटी बढ़ाने में कर रहे हैं। सी.एम.एस स्कूल, अलीगंज, लखनऊ की कक्षा 4 की छात्रा अपूर्वा ने कोरोना को दूर भगाने के लिए एक कविता "कोरोना को भगाना है" लिखी, जो कि आजकल खूब वायरल हो रही है। इस कविता में अपूर्वा ने घर पर ही रहने, सोशल डिस्टेंसिंग, हाथ धुलने, छींक व खाँसी आने पर मुँह को ढकने,  इम्युनिटी बढ़ाने के लिए बाहर की बजाय मम्मी के बनाये खाने, घर में ही पढ़ाई करने, इनडोर गेम्स खेलने की मासूम अपील की है।कविता की अंतिम पंक्तियाँ प्रधानमंत्री मोदी जी की बात मानने को लेकर है-

मोदी अंकल की बात सुनकर

लॉक-डाउन का पालन करना है

सभी रहेंगे स्वस्थ सुरक्षित

एक मजबूत भारत बनाना है।

अपूर्वा के पिता एवं लखनऊ परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँ कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि, घर में रहकर टीवी देखते-देखते अपूर्वा ने वो सारी नसीहतें ध्यान से सुनीं, जिनसे कोरोना वायरस को दूर भगाया जा सकता है।और फिर इसे अपने मम्मी-पापा के सहयोग से एक खूबसूरत कविता में बदल दिया। अपूर्वा की माँ एवं अग्रणी  ब्लॉगर व साहित्यकार आकांक्षा यादव ने बताया कि, अपूर्वा ने इस कविता को गाया भी, जिसका वीडियो बनाकर उनके पिता ने यूट्यूब पर डाला। यूट्यूब पर भी इसे खूब सराहा जा रहा है। गौरतलब है कि अपूर्वा की बड़ी बहन अक्षिता (पाखी) भारत की सबसे कम उम्र की राष्ट्रीय बाल पुरस्कार विजेता हैं।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com