ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अपनी-अपनी लड़ाई
June 6, 2020 • सविता दास सवि • कविता

*सविता दास सवि
 
हाँ ! कविताएँ 
लिखती हूँ मैं
क्योंकि 
मेरे अंदर एक 
बीज गड़ा है
उपेक्षाओं,कुंठाओं
शोक,हर्ष , हताशा
जुगनू सी टिम-टिम
करती आशाओं का
इसे सींचती हूँ मैं
जीवन के हर 
अनुभव से मिले
खाद से ,
उस प्रेम से
जो तुम्हारे चौखट से
बिना लिए 
लौट आई थी
जानती हूँ ये बीज 
वटवृक्ष बनेगा
जब इसे 
आकांक्षाओं का
सूरज अपनी 
रोशनी से सींचेगा
तब तक ये यात्रा
जारी रहेगी
अथक, अनवरत
क्योंकि मुझे
विश्राम इसी की
छाया में करना है
उन असँख्य 
पथिकों के साथ
जो हताश से हैं
अपनी-अपनी
लड़ाइयाँ लड़ते हुए।
*तेज़पुर,शोणितपुर (असम)
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw