ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अक्षर बिके हुए हैं जुबा है बिकी हुई
June 6, 2020 • डॉ कौशल किशोर श्रीवास्तव • गीत/गजल

*डॉ कौशल किशोर श्रीवास्तव

अक्षर बिके हुए हैं जुबा है बिकी हुई
सब खा रहे हैं मुफ्त की रोटी सिकी हुई
वे कह रहे हैं ट्रेन की रफ्तार तेज है
हमको तो लग रहा है कि वह है रुकी हुई
तुम कहते हो मीनार की ऊंचाई बहुत है
ऊंचाई बहुत है तो क्यों वह है झुकी हुई
मजबूत सहारे सियासत तोड़ रही है
जो लटके हैं उससे वह उन पर है टिकी हुई
हमको तो भूखा मार दिया दोस्त बनाकर
खुद जी रहे हो घी है एक कथडी ढकी हुई
*छिंदवाड़ा

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw