ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अगर मुस्कान तुम दे दो
April 26, 2020 • विजय कनौजिया • कविता


*विजय कनौजिया

लिखा है गीत फिर मैंने
मुझे संगीत तुम दे दो
मधुर सरगम बने तुमसे
जरा सी प्रीति तुम दे दो..।।

नहीं होगी कभी फीकी
मधुर मुस्कान होठों की
मेरी मुस्कान में अपनी
अगर मुस्कान तुम दे दो..।।

इन आँखों की नमी में
यादों के बादल गरजते हैं
आ जाए फिर से अब सावन
अगर बरसात तुम दे दो..।।

संजोया है तुम्हारी याद को
मन के घरौंदे में
सुसज्जित फिर से हो जाए
अगर पदचाप तुम दे दो..।।

लिखा है गीत फिर मैंने
मुझे संगीत तुम दे दो
मधुर सरगम बने तुमसे
जरा सी प्रीति तुम दे दो..।।
जरा सी प्रीति तुम दे दो..।।

*विजय कनौजिया,अम्बेडकर नगर

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw