ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अधरों पर लाली खिली,गाल हो गये लाल
June 12, 2020 • प्रो.शरद नारायण खरे • दोहा/छंद/हायकु

*प्रो.शरद नारायण खरे

दर्पण ने नग़मे रचे,महक उठा है रूप !
वन-उपवन को मिल रही,सचमुच मोहक धूप !!

इठलाता यौवन फिरे,काया है भरपूर !
लगता नदिया में 'शरद',आया जैसे पूर !!

उजियारा दिखने लगा,चकाचौंध है आंख !
मन-पंछी उड़ने लगा,नीलगगन बिन पांख !!

अधरों पर लाली खिली,गाल हो गये लाल !
नयन नशीले देखकर,आने वाला काल !!

अंगड़ाई,आवेश है,मस्ती है,उन्माद !
उजड़ेगा या अब 'शरद' ,हो कोईआबाद !!

बासंती परिवेश है,बासंती है भाव !
वह ही खुश प्रिय का नहीं,जिसको आज अभाव !!

मन बौराया,तन हुआ,मादकता- पर्याय !
अंतरमन रचने लगा,गीतों का अध्याय !!

नगरी है ये नेह की,दिल मिलते बेचैन !
प्यासे हैं,सबके अधर,नयन बहुत बेचैन !!

रूप,गंध,रस,प्रीत है,पलता है अनुराग !
सबके उर गाने लगे,मिलन- प्रणय के राग !!
*मंडला(म.प्र.)

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw