ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अभी ज़हर फिर खिला दिया क्यों
June 21, 2020 • प्रदीप ध्रुव भोपाली • गीत/गजल
*प्रदीप ध्रुव भोपाली
ग़ुज़ार लम्हे भुला दिया क्यों।
अज़ीब सा ये सिला दिया क्यों।
 
खुशी मिली थी तबाह दिल को
खुशी ज़मीं में मिला दिया क्यों।
 
फ़रेब कर के मिला तुम्हें क्या
अज़ीब ग़ुल ये खिला दिया क्यों।
 
हजार कसमें किए थे वादे
मेरा उसे हक़ दिला दिया क्यों।
 
शुमार यारी रही भी अपनी
अभी ज़हर फिर खिला दिया क्यों।
*भोपाल मध्यप्रदेश
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw