ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अभी नही देखा
June 13, 2020 • अमित डोगरा • कविता
*अमित डोगरा
 
सिर को झुकते देखा है, 
पर झुकाते नहीं देखा 
अभी अपनापन देखा है, 
परायापन नहीं देखा 
अभी प्यार देखा है, 
नफरत नहीं देखी 
अभी दोस्ती देखी है,
 दुश्मनी नहीं देखी 
अभी इज्जत देते हुए देखा है, 
बेइज्जती नहीं देखी 
सब कुछ पाते हुए देखा है, 
सब कुछ खोते हुए नहीं देखा 
सबको साथ देते देखा है, 
अकेलापन नहीं देखा 
मेरी खामोशी देखी है, 
मुझे ज्वालामुखी बनते नहीं देखा
पानी जैसे शांत चलते देखा है,
उसी पानी को सब कुछ
बहाते ही नहीं देखा 
अभी सिर्फ तूफान देखा है, 
तूफान को बवंडर बनते नहीं देखा 
सच्चाई पर पर्दे पड़े देखे हैं,  
उन परदो को उठते नहीं देखा 
*अमृतसर
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw