ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अब उजड़ा संसार बसाने का यह अवसर है
November 20, 2019 • admin

*प्रो.शरद नारायण खरे*

आशाओं के दीप जलाने का यह अवसर है,
अब तो प्रिय मुस्कान खिलाने का यह अवसर है ।

वक्त़ रहा प्रतिकूल सदा ही, पर हो ना मायूस,
अब उजड़ा संसार बसाने का यह अवसर है ।

व्देष, बैर,कटुता ने बांटा भाई-भाई को,
वैमनस्य-दीवार ढहाने का यह अवसर  है ।

लेकर हाथ चलें हाथों में,मिलें क़दम क़दम से,
चैन-अमन का गीत बजाने का यह अवसर है ।

पीर,दर्द,ग़म और व्यथाओं का है यह आलम,
मानव-मन को आज सजाने का यह अवसर है ।

महके मानवता का घरअब,अपनापन बिखरे,
नेह,प्रेम के भाव निभाने का यह अवसर है ।

बहुत हो चुका तंद्रा तोड़ो,उठो 'शरद'अब सारे,
अब तो हमको कुछ कर दिखलाने का यह अवसर है ।
                     
*प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला(म.प्र)मो.9425484382
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733