ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अब ना सखी मोहे सावन सुहाए
July 11, 2020 • सुषमा दीक्षित शुक्ला • कविता

*सुषमा दीक्षित शुक्ला

अब ना सखी मोहे सावन सुहाए
अब ना सखी मोरा मन मचलाये।
अब तो सही मोहे पिया बिसराए।
अब तो सखी मोहे रिमझिम जलाये  ।
अब नहीं करते पिया  मीठी बतियाँ ।
अब नहीं सावन गाती  हैं सखियां।
कोई उमंग सखी मन में ना आए।
अब तो सखी मोहे पिया  बिसराये ।
अब ना सखी मोहे सावन सुहाए ।
बिरहा की अग्नी में हियरा जले है
कब से  ना  उनसे  नयना मिले हैं ।
अब ना पिया मोहे गरवा लगाए।
अब तो सखी मोहे रिमझिम जलाये ।
अब ना सखी मोहे सावन सुहाए ।
मोरे पिया का ऐसा था मुखड़ा।
धरती पे  आया हो चाँद का टुकड़ा।
जैसे  अनंगों  ने रूप सजाए।
अब तो सखी मोहे रिमझिम जलाये ।
अब  ना तरंगो ने दामन  भिगाये 
अब ना सखी मोहे सावन सुहाए ।
अब तो सखी मोहे पिया बिसराये।

 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw