ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
अब न होए प्रीति (कविता)
October 11, 2019 • admin

*विजय कनौजिया*

किसे बनाऊं मीत मैं
किसे कहूँ मनमीत
मन को कुछ भाए नहीं
अब न होए प्रीति..।।

दिल अब टूटा सा लगे
न अब कोई आस
बदले-बदले लोग अब
ऐसी अब है रीति..।।

साथ स्वार्थ में बदले ऐसे
फीके सब संबंध हुए
उनको कुछ अफ़सोस नहीं है
ऐसी अब है नीति..।।

रिश्तों की बदली परिभाषा
ऐसा अब परिवेश हुआ
सब कुछ अवसर पर निर्भर
मुझको ये अनुभूति...।।

किसे बनाऊं मीत मैं
किसे कहूँ मनमीत
मन को कुछ भाए नहीं
अब न होए प्रीति..।।
अब न होए प्रीति..।।

*विजय कनौजिया,ग्राम व पोस्ट-काही,जनपद- अम्बेडकर नगर (उ0 प्र0) मो-9818884701

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733

यह भी पढ़े-

विकास के कुछ आयाम जो कितने हानिकारक हैं

आधुनिक जीवनशैली मे तेजी से बिगडता जा रहा मानसिक स्वास्थ

महाराजा अग्रसेन का उपकारहीन उपक्रम: एक निष्क और एक ईंट