ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
आये वतन पे खतरा
January 25, 2020 • रूपेश कुमार • कविता

*रूपेश कुमार
 
आये वतन पे खतरा वो जान भी लगा दो ,
ये मुल्क के जवानो जंग का ज़ूनून भर लो ,
 
इसी जंग के कोने मे कही जन्नत नजर आयेगी ,
जंग आ ही जाये सर पे तो जुल्म भी तू कर ले ,
 
आजाद मुल्क है तो आजाद हम रहेगे ,
कुर्बानियो के खातिर , कफन का ताज धर लो ,
 
ये ज़मी तुम्हारा , ये आंसमा तुम्हारा ,
अपनी आबरू के खातिर , अरमान दिल मे भर लो ,
 
रश्के जीना वतन है , अपना इस ज़हाँ मे ,
पांसवा है हर जंवा , गुलिस्तान दिल मे भर लो ,
 
है नहीं जंहा मे कोई भी अपना मरहम ,
दर्दनिया के दिल मे रखकर उड़ान भर लो ,
 
मजहब की बात छोड़ो , हम साया है अपना ,
गुलशन मे बहुत फूल है सब फूलो से प्यार कर लो !
 
*रूपेश कुमार,चैनपुर,सीवान 
 
 
साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com