ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
आया सावन
July 29, 2020 • ✍️आशु द्विवेदी • कविता
 
✍️आशु द्विवेदी
देखो फिर से आया सावन। 
सबके मन को भाया सावन। 
 
गरज़ गरज़ के बादल गरजे।
रिमझिम रिमझिम बूंदे बरसे।
 
मस्ती में सब मिल कर झूमे। 
बागों में देखो डल गए झूले। 
 
सन सन सन बहती हवाएँ।
कोयल अपना गीत सुनाएँ। 
 
वन में नाच रहे हैं मोर। 
पंछी भी देखो करते शोर। 
 
चारो तरफ हरियाली छाई। 
किसानो के मन को खूब लुभाई। 
*दिल्ली
 

अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com

यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw