ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
आज तो है मरासिम कल बाते चार हो न हो
May 10, 2020 • आयुष गुप्ता • कविता

*आयुष गुप्ता

आज तो है मरासिम कल बाते चार हो न हो,
अभी हमें यकीन है फिर ये एतबार हो न हो।

तुम्हें सोचता हूँ तो अक्सर मुस्कुरा लेता हूँ,
हिज़्र के मौसम में फिर ये खुमार हो न हो।

हो गर इश्क़ तुम्हें भी मुझसे तो इज़हार करो,
अभी मैं भी राज़ी हूँ कल मुझे प्यार हो न हो।

चिराग़-ए-इश्क़ हवाओं से कब तलक लड़ेंगे,
आँधियाँ तेज़ गर हुई तो सहन वार हो न हो।

जाना और न तड़पाओ अब चली भी आओ,
अभी मैं मुंतज़िर हूँ फिर यूँ इंतज़ार हो न हो।

जिसे तुम देखती हो वस्ल की राह का पर्वत,
तुम साथ दो गर तो फिर वो संसार हो न हो।

*आयुष गुप्ता,उज्जैन

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw