ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
सुर के मगही पान (गीत)
October 6, 2019 • admin
*शिवानन्द सिंह 'सहयोगी'*
 
नवगीतों की, गोलमेज पर,
बैठा अनुसंधान।
 
नए हिमालय की तलाश में,
शब्दशास्त्र के तथ्य,
भाव-बोध के चयनित अक्षर,
शब्द सुशिक्षित कथ्य,
अर्थवाद के लोकतंत्र के,
शिष्ट विषयगत ज्ञान।
 
भाषा के हर सिंहद्वार की
द्युति, वीणा के बोल,
नई शृंखला, नई उपज के,
स्वर-सप्तक के लोल,
अधरों की धुन, इंद्रधनुष छवि,
सुर के मगही पान।
 
यादों के शाश्वत समूह के,
शुचि सुछंद के मोर,
वाक्यों की घाटी जो जाती,
स्वर्गभूमि की ओर,
मंत्रमुग्ध वह लय का पर्वत,
उगे खेत में धान।
 
कविताओं के शब्द-बैंक के,
नकद जमा भुगतान,
यति-गति-नति के दरवाजों के,
खड़े हुए उपमान, 
ललित क्षितिज की, सांध्य-किरण की,
प्रभुता के अवदान।
 
*शिवानन्द सिंह 'सहयोगी',मेरठ

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733