ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
श्राद्ध (लघुकथा)
September 27, 2019 • admin
 
*विजय सिंह चौहान
 
आज दीनू के पतरे पर कौवा, काव- काव चिल्ला रहा है, इस पर दीनू ने बाहर निकल कर देखा , की  कौए की चोंच में खीर से लथपथ पूरी का एक कोर दबा है ।
 
दीनू , पक्षियों के लिए रोज ज्वार बाजरे का मिश्रण ओर सकोरे में पानी भरकर रखता है । कौवे और दीनू  की नजरे मिलती है और कोआ,  मुह से निवाला दीनू के आंगन में गिरा देता है,जहाँ दीनू  अपने पितरों को घी-गुड़ की धूप दे रहा था।
 
आज सुबह से ही, दीनू को मलाल हो रहा था कि वह तंगी के चलते पितरो को खीर पूरी का भोग नही लगा पाया।
 
*विजय सिंह चौहान,इंदौर
 
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733