ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
नवरातों का संदेश (कविता)
October 3, 2019 • admin

*प्रो.शरद नारायण खरे* 

नवरातें कहती हैं मुझसे,
नारी का सम्मान हो
बेटे से कम नहीं है बेटी,
बेटी पर अभिमान हो ।

नारी किंचित नहीं है दुर्बल,
सचमुच वह बलवान है
नारी से ही रौनक घर की,
नारी से ही आन है

नारी को तो पूजा जाये,
पूरा हर अरमान हो
बेटे से कम नहीं है बेटी,
बेटी पर अभिमान हो ।

नारी से ही बरकत होती,
नारी से उत्थान है
नारी से गृह बगिया सजती,
नारी से ही मान है

नवरातें कहती हैं सबसे,
नारी का गुणगान हो
बेटे से कम नहीं है बेटी,
बेटी का जयगान हो ।

प्रो.शरद नारायण खरे ,मंडला(मप्र)-481661,मो.9425484382

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733