ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दृष्टि (लघुकथा) 
September 25, 2019 • admin
 
*डॉ. गिरीश पंडया*
 
किसी अस्पताल के एक वार्ड में दो रोगी भर्ती थे। दोनों ही रोगियों की जांच  के परिणामों में यह पाया गया कि उनकी एक किडनी खराब है। एक रोगी को जब यह बताया गया तो वह ऐसा सोचकर खुश हुआ कि कम से कम उसकी एक किडनी तो सुरक्षित है। आगे की जिंदगी उस एक किडनी के सहारे ही कट जाएगी।   
         दूसरे रोगी को जब  एक किडनी खराब होने की बात  पता चली तो  वह भयंकर तनाव में आ गया । उसने सोचा कि उसकी एक किडनी तो खराब हो ही चुकी है और अब यदि दूसरी भी खराब हो गई तो उसका बचना तो मुश्किल ही है समझो।
     कुछ दिनों बाद पहला रोगी पूर्णत: स्वस्थ होकर घर जा चुका था। दूसरा रोगी अधिक समय तक जीवित नहीं रहा । रिपोर्ट के अनुसार उसकी मृत्यु किडनी खराब होने से नहीं बल्कि अनावश्यक तनाव के चलते ब्रेन हेमरेज से हुई।
    परिस्थितियां दोनों रोगियों के लिए ही समान थी किंतु दोनों रोगियों द्वारा उन परिस्थितियों को देखने की दृष्टि अलग थी जो उन्हें अलग दिशा में ले गई।
 
*डॉ. गिरीश पंडया,A-22 , ऋषिनगर,उज्जैन (म. प्र.) ,मो 09926018122
ई मेल- girishpandya761@gmail.com
 
 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com