ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
दिन वैशाख  के
April 8, 2020 • अशोक 'आनन ' • गीत/गजल

 

      *अशोक 'आनन '
 
गर्म 
बहुत  गर्म  हुए -
दिन अब वैशाख के ।
 
      सूरज  के  घर -
      आग  लगी  है ।
      बस्ती जल की -
      बहुत दुःखी है ।
रूप   देख   
धूप   का -
पात  जले शाख  के ।
 
     लू पड़ीं जकड़कर -
     राहों     में ।
     गांव -  शहर    को -
     बांहों    में ।
सूख    गए    
सीप    भी -
झील - सी हर आंख के ।
 
     बूंद   -   बूंद  को -
     तरसे      पानी ।
     सूखे    की     बस -
     यही    कहानी ।
आए   दिन   
त्रास   के -
आग , धुआं , राख के ।
 
     नदियां -
     रेत को ओढ़े - ओढ़े ।
     पड़े     फफोले -
     अब    कैसे    दौड़ें ?
कुएं   कहें  
ताल   से -
पात   वही  ढाक  के ।
 
*अशोक 'आनन' , मक्सी,जिला - शाजापुर ( म.प्र.)
 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com