ALL कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कौन यह मुझमे मुखर हो(गीत)
September 23, 2019 • admin

*डॉ ब्रजेश मिश्र*

कौन यह मुझमे मुखर हो,
पूछता है आज फिर-फिर!

        क्या हुए वे स्वप्न स्वर्णिम,
        सजे थे जो उर-निलय में?
        क्या हुए वे भग्न, करुणिम-
        आह भर खंडित ह्रदय में?
        क्या मिले संताप दुर्दम?
बूझता है आज फिर -फिर!
पूछता है आज फिर-फिर!

        क्या हुई मृदु कामनाएँ,
        चिर सँजोई आस उर मे?
        क्या हुई वह कल्पनायें,
        मृदुल-मधुरिम भाव उर में?
        क्या दुसह थी वंचनाएँ?
बूझता है आज फिर-फिर!
पूछता है आज फिर-फिर!

          क्या हुई प्रतिबद्धताएँ,
          सद-सुभग संकल्प उर के?
          क्या हुई वो मान्यताएँ,
          मूल्य औ' आदर्श उर के?
          क्या हुईं सद्भावनाएँ?
बूझता है आज फिर-फिर!
पूछता है आज फिर-फिर!

           व्यथितमन मैं सोचता हूँ,
           सार्थक यह प्रश्न सारे।
           सतत उत्तर खोजता हूँ,
           पर अबूझे प्रश्न सारे ।
           दुखित हर उर ,जानता हूँ,
बूछता हल आज फिर-फिर!
पूछता है आज फिर-फिर !

 *डॉ ब्रजेश मिश्र, मुजफ्फरनगर

 

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com