ALL लॉकडाउन से सीख कविता लेख गीत/गजल समाचार कहानी/लघुकथा समीक्षा/पुस्तक चर्चा दोहा/छंद/हायकु व्यंग्य विडियो
कहे दशहरा पर्व यह (दोहे)
October 7, 2019 • admin

*प्रो.शरद नारायण खरे*
कहे दशहरा पर्व यह,
ना करना अभिमान
वरना सब मिट जायगा,
हो कुल का अवसान ।

कहे दशहरा पर्व यह,
चलो सदा सद् राह 
वरना सुख मिट जायगा,
हर पल निकले आह ।

कहे दशहरा पर्व यह,
रखना शुचिता भाव
वरना जीवन नष्ट हो,
हर पल रहे अभाव ।

कहे दशहरा पर्व यह,
सबसे उत्तम सत्य
जो हर ले सारा तिमिर,
बनकर के आदित्य ।

कहे दशहरा पर्व यह,
सबसे उत्तम धर्म 
करना ना वह काम जो,
 कहलाता दुष्कर्म ।

कहे दशहरा पर्व यह,
बन मानव तू राम 
तब ही जीवन बन सके,
सचमुच में अभिराम ।।

*प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला (मप्र),मो.9425484382

शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-

अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com

या whatsapp करे 09406649733